कृतज्ञता व्यक्त करने के लाभ

BENEFITS OF GRATITUDE IN HINDI

विपाशा नायक

मेन्टल हेल्थ एम्बेसडर

कृतज्ञता का मतलब है आभारी होने का मनोभाव । यह जीवन में हमारे पास मौजूद हर चीज के लिए आभारी होने के एक जागरूक विकल्प बनाने के बारे में है। कृतज्ञता एक भावना है जो हमें उच्चतम वाइब्रेशन में ले जाती है। और जब हम उच्चतम वाइब्रेशन में होते हैं, तो हम अपने जीवन में केवल अच्छी चीजों, लोगों और परिस्थितियों को आकर्षित करते हैं। इसलिए हम जितने ज़्यादा आभारी होते हैं, उतनी ही अच्छी चीजें हमें मिलती हैं।

ब्रह्मांड हमेशा हमें वही देता है जिसके लिए हम खुद को योग्य मानते हैं। हममें से अधिकांश को, हमारे पास क्या नहीं है या क्या कमी है, उसी पर ध्यान केंद्रित करने की आदत है, और फिर हमें आश्चर्य होता है कि हमारा जीवन इतना खाली और दुखी क्यों हैं। हमारे पास जो कुछ भी है उसके लिए आभारी होना नुकसान की भावना को छोड़ने का एक प्रभावी तरीका है। आभार, नकारात्मक स्थितियों से हमारा ध्यान हटाने और जो सही है उस पर हमारा ध्यान केंद्रित करने का एक शानदार तरीका है। हम एक ही समय पर आभारी और दुखी नहीं हो सकते!

हम में से कई लोग यह तर्क देंगे कि जब भी किसी ने उनकी मदद की है, उन्होने उस इंसान को धन्यवाद व्यक्त किया है, फिर उनका जीवन अपने सबसे अच्छे रूप में क्यों नहीं है? हम सभी को बचपन से ही ’धन्यवाद’ को एक अच्छे व्यव्हार के रूप में सिखाया जाता है। लेकिन हमें धन्यवाद कहने की इतनी आदत हो गई है कि हमने इसे औपचारिक अभिवादन के रूप में संबोधित करना शुरू कर दिया है, जो कि सिर्फ इसके लिए बनाया गया है। कृतज्ञता की भावना के साथ धन्यवाद कहना एक अलग बात है।

हम आमतौर पर सोचते हैं कि आभार केवल उस चीज के बदले में दिया जाना चाहिए जो हमें प्राप्त हुआ है। लेकिन, हम उन चीजों के लिए भी आभारी हो सकते हैं जिस्की हमें इतनी आदत है की हम उसका मूल्य नहीं करते, जैसे घर, भोजन, पानी, परिवार, प्रकृति, मशीनें,आदि । जब हम छोटी चीजों की राहना करना शुरू करते हैं, तो बड़ी चीजें सहजता से हमारे लिए अपना रास्ता खोज लेती हैं।

आभारी महसूस करने का यह सरल अभ्यास दूरगामी परिणाम लाता है क्योंकि 'अच्छे पर ध्यान देना ही अच्छे को बढ़ाना है'। आभारी होने का एक और सकारात्मक परिणाम है अर्पण करने की बढ़ी हुई क्षमता। जब हमारे दिल में कृतज्ञता होगी, तो हम दूसरों को मदद करने की एक नई इच्छा पाएंगे, ताकि वे भी उन खुशियों का अनुभव करें जो हम महसूस करते हैं। आप देखेंगे कि आप कुछ पाने की अपेक्षा के बिना दूसरों की जरूरतों और चाहतों में योगदान करना चाहते हैं।

कभी-कभी हमारे सामने आने वाली चुनौतियों में कृतज्ञता का सबसे बड़ा कारण छुपा होता है, क्योंकि वे हमें मजबूत और अधिक दयालु इंसान बनने में मदद करते हैं। जब हम अपने जीवन में उन परिस्थितियों और घटनाओं के लिए धन्यवाद देते हैं जो चुनौतीपूर्ण है यह जानकर कि हमें इस अनुभव से सिख प्राप्त हो रही है, तो नकारात्मक अनुभव भी सकारात्मक रूप

में बदल जाते है। जब हम आभार व्यक्त करते हैं, तो हम और अच्छे लोगों और स्थितियों के लिए स्थान बनाते हैं। वह कृतज्ञता का जादू है!

आभार जताने के तरीके:

ध्यान / Affirmations- कुछ भी जो मौखिक रूप से दोहराया जाता है या जिसके बारे में सोचा जाता है, वह एक प्रतिज्ञान या अफर्मेशन बन जाता है। अफर्मेशन्स हमें हमारे दिमाग को रिवायर करने में और उसे उज्ज्वल पक्ष को देखने के लिए सक्षम बनाते है। सभी चीजों और लोगों को धन्यवाद देने के लिए रोजाना कुछ क्षण निकालना हमारे लिए अत्यंत लाभकारी है। आप या तो कोई कृतज्ञता ध्यान सुन सकते हैं या अपनी खुद की पुष्टि लिख सकते हैं या बोल ​​सकते हैं।

जर्नलिंग- रोजाना कुछ मिनटों निकालकर, दिन भर की सभी अच्छी चीजों की सूचि बनाये। यह रोज़ाना आने वाली धूप की तरह सरल हो सकता है, यह तथ्य कि आपके पास नौकरी है, आपके रेफ्रिजरेटर में भोजन है , या आपके घर का वाई-फाई जिसने आपको पूरे लॉकडाउन को गुज़ारने में मदद की है! जैसे

जर्नलिंग एक आदत बन गई है, आप खुद को बहुत अधिक माइंडफुल

होते देखेंगे, और स्वचालित रूप से हर चीज में अच्छे की तलाश करेंगे।

आभार व्यक्त करना- अपनी कृतज्ञता व्यक्त करना उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि इसे अंदर महसूस करना। जितना अधिक आप व्यक्त करते हैं, उतना ही यह अप्रत्याशित तरीके से आपके पास वापस आता है। अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदारों, बॉस, या सहकर्मियों को हाथ से लिखे धन्यवाद नोट भेजें। यह छोटासी चीज़ अविश्वसनीय रूप से आपके रिश्तों को जोड़ सकती है,क्यूंकि आप अपने जीवन में लोगों को महत्व देना और उनकी सराहना करना सीखते हैं, न कि केवल उन्हें टेकन फॉर ग्रांटेड करना। उन लोगों को धन्यवाद दे , जो नियमित रूप से आपको सेवा देते हैं जैसे दुकानदार, ड्राइवर, या आपकी घरेलू मदद ।

देना, देना, और देना- हमेशा याद रखें, देना प्राप्त करने के बराबर है। आप जो भी देते हैं, वही आपके पास वापस आता है। प्यार और खुशी दें, और आप वही

ही प्राप्त करते हैं। स्वयंसेवी संगठनों और अन्य संगठनों के लिए स्वयंसेवक बनें और अपना समय और प्रयास का दान दे । आप नहीं जानते कि आप किसकी मदद कर रहे हैं, और किसकी प्रार्थना आपकी मदद कर सकती है।

आभार एक परिवर्तनकारी रवैया है। इसे नियमित रूप से अभ्यास करना शुरू करें, और देखें कि आपका जीवन कितना जादुई तरीके से बदलता है!

View more content by विपाशा नायक

Discussion Board

कृतज्ञता व्यक्त करने का आपका सबसे पसंदीदा तरीका क्या है?